Toll Plaza पर क्यों देना पर रहा है दूगना पैसा? समझिए खान सर से!

16 February को परिवहन मंत्री ने सभी गाड़ियों के लिए FASTag को अनिवार्य कर दिया है। अगर आपके गाड़ियों पर FASTag नहीं लगा है तो आपको Toll Plaza पर Fine देना होगा।

क्या होता है FASTag?

फास्टैग एक Electronic Toll Collection तकनीक है, इसमें Radio Frequency Identification (RFID) का इस्तेमाल होता है। इस Tag को वाहन के Windscreen पर लगाया जाता है जैसे ही आपकी गाड़ी Toll Plaza के पास आती है तो टोल प्लाजा पर लगा सेंसर उस टैग को स्कैन करता है और Payment Automatic हो जाता है। इस FASTag में आप रिचार्ज करवा सकते हैं या आप Direct Bank Account से Attach कर सकते हैं। आप 100 रुपए से लेकर 1,00,000 लाख तक FASTag में पैसा रख सकतें हैं।

Fastag

यह कैसे काम करता है?

जब आपकी गाड़ी टोल प्लाजा के पास पहुँचती हैं तो अपने आगे आने वाली गाड़ी से आपके गाड़ी के बीच का दुरी 4m होना चाहिए तभी Toll प्लाजा के ऊपर लगा Scanner गाड़ी की Scan कर पाएगा। यह Radio Frequency पर काम करता है।

कौन कौन से वाहन को जरुरी है FASTag?

• सफ़ेद नंबर प्लेट वाले वाहन

• कमर्शियल वाहन पीले रंग के नंबर प्लेट

हालाँकि FASTag की अनिवार्यता ने दो पहियों के वाहन के लिए छूट दिया है।

दोगुना चार्ज कब लगेगा?

• अगर आपका FASTag काम नहीं कर रहा है या वैलिड नहीं है तो हाईवे से गुजरने पर आपको दोगुना टोल देना पड़ेगा।

•  अगर आपके गाड़ियों में FASTag नहीं है तो आपको दोगुना टोल देना होगा।

कैसे बनवाएं FASTag?

आप अपना Driving License और वाहन का Registration Certificate की Copy जमा करके FASTag खरीद सकते है। आपसे आधार कार्ड और बैंक डिटेल्स भी मांग सकती है।

NHAI ने 40,000 से ज्यादा केंद्र Open किए है FASTag बनवाने के लिए या आप Paytm , Amazon या  Flipkart से भी FASTag खरीद सकते हो।

ज्यादा जानने के लिए Khan Sir का यह Video देखें।