देश में कोरोना से कोहराम, जानिए कब थमेगी इस वायरस की भयानक रफ्तार?

भारत में 24 घंटों में 4 लाख से भी अधिक कोरोना के नए मामले दर्ज किये गए हैं। जैसे जैसे दिन आगे बढ़ रहा है कोरोना की रफ्तार और तेज होती चली जा रही है। देश में कोरोना महामारी का प्रकोप ऐसा फैला है जिससे भारत का कोई भी हिस्सा बचा नहीं है। बड़े राज्यों से लेकर क्षेत्रफल में छोटे राज्य हो या भारत के द्वीप हो, कोरोना इस समय हर जगह तांडव मचा रहा है।

देश में इस समय कोरोना के मरीज इतनी तेजी से बढे हैं जिस से अस्पताल में बेड की संख्या भी काफी कम हो चुकी है। कही बेड मिल रहा है तो ऑक्सीजन की कमी है। देश के कई हिस्सों में ऐसे हालत है की ऑक्सीजन की कमी से कई कोरोना के मरीजों के जान जाने की खबर आयी है।

बता दें की सरकार द्वारा कोरोना वैक्सीनेशन का काम भी तीव्र गति से किया जा रहा है लेकिन अभी तक तकरीबन 15 करोड़ लोगों की ही कोरोना की वैक्सीन मिली है।

सरकार ने पहले सिर्फ 45 साल के ऊपर के ही मरीजों को वैक्सीन देने की इजाजत दी थी पर अब 1 मई से 18 साल से ऊपर के मरीजों को भी कोरोना की वैक्सीन दी जाने वाली थी। पर वैक्सीन की कमी की वजह से कई राज्यों ने वैक्सीन ने 18 साल से ऊपर के लोगों को वकिसीन दिखने असमर्थता दिखाई है।  भारत में कोरोना की रफ्तार इतनी तेज है की इस से बच पाने का बस एक ही सहारा दिख रहा है और वो है वैक्सीन। पर अभी वैक्सीनेशन की रफ्तार थोड़ी चिंताजनक जरूर है। इसे गति देने की शख्त जरुरत है।

आखिर कब थमेगी देश में कोरोना की भयानक रफ्तार निचे देखिये खान सर का वीडियो

मालूम हो की भारत में अप्रैल के शुरुवात में कोरोना के 50 हजार के करीब ही मामले आ रहे थे। वही ये आंकड़ा अब 3.8 लाख के भी पार जा चूका है। कोरोना से सबसे अधिक प्रभावित महाराष्ट्र है वही उत्तर प्रदेश में कोरोना के वजह से हालत बिगरे हुए है। देश में ऑक्सीजन की कमी को देखते हुए सरकार हरकत में आयी है अधिक ऑक्सीजन के उत्पादन पर काम किया जा रहा है। बता दें की कोरोना की दूसरी वेव में मरीजों के फेफड़े का नुकसान सबसे अधिक हो रहा है जिसके कारन ऑक्सीजन की ज्यादातर मरीजों को जरुरत पड़ रही है।