सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी गयी तो लगाया अनोखा आईडिया, अब हर महीने कर रहे 2 लाख का बिजनेस

अभी के समय में नई नौकरी ढूंढने के लिए काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। साल 2020 में कोरोना महामारी ने ऐसा प्रकोप किया पूरी दुनिया में लॉकडाउन लग गया, भारत भी इस से अछूता नहीं रहा था, हमारे देश में भी सरकार को कठोर लॉकडाउन लगाना पड़ा था। इस लॉकडाउन के वजह से लाखों लोगों को अपनी नौकरी गवानी पड़ी थी, कई व्यापर बंद हो गए तो कई तो पूरी तरह से बर्बादी के कगार पर पहुंच गए थे, ऐसे में बहुत से लोगों की नौकरी खतरे में पड़ गयी थी और बड़ी संख्या में लोग बेरोजगार हो गए थे। इसके वजह से कई लोग काफी परेशान हो गए थे जो स्वभाविक भी था, पर इनमे से कुछ ऐसे लोग भी थे जिन्होंने इस आपदा को अवसर में बदल दिया।

महाराष्ट्र के पुणे शहर के रहने वाले रेवन शिंदे ने कोरोना की इस मुश्किल समय में ऐसा बिजनेस आईडिया लगाया जिसकी वजह से वो आज करीब 2 लाख रूपए का व्यपार हर महीने कर रहें हैं। बता दें की रेवेन शिंदे की नौकरी भारत में कोरोना के दस्तक देने से पहले ही साल 2019 के दिसंबर महीने में छूट गयी थी, फिर कोरोना के आ जाने से जहाँ लाखों लोगों की नौकरी जा रही थी, ऐसे में रेवन की लिए नई नौकरी ढूंढना बड़ा मुश्किल हो रहा था।

ये भी पढ़ें – ये है दुनिया का सबसे डरावना फोन नंबर, जिसने भी खरीदा जिंदा नहीं बचा

ऐसे में रेवन ने बिजनेस करने का सोचा, रेवन कहते हैं की जून में देश में लॉकडाउन से थोड़ी रियात दी गयी थी, जिसके कारण ऑफिसेज फिर से खुलने लगे थे, पर तब लोग दूकान से और खासकर बहार जाके कुछ भी खाने, पीने की चीज़ खरीदने से परहेज कर रहे थे। ऑफिस में ज्यादातर लोगों को चाय पीना काफी पसंद होता है, पर उस समय चाय मिलना भी मुश्किल था, ऐसे में रेवन ने शरुवात में लोगों का रुझान देखने के लिए फ्री में चाय देना शुरू किया और वो तक़रीब 2 महीने तक मुफ्त चाय पिलाते रहे, आखिरकार उनकी मेहनत रंग लायी और उनके पास चाय के काफी ऑर्डर्स भी आने लागे।

ये भी पढ़ें – 14 साल की उम्र में बेचा दूध और पेपर, 18 की उम्र में काटें लोगों के बाल, आज अरबों की संपत्ति का मालिक है ये नाइ!

रेवन अपनी दूकान में अब चाय के साथ-साथ कॉफी और गर्म दूध भी रखते हैं,  इनकी कीमत 6 रूपए से लेकर 10 रूपए के बीच होती है। रेवन ने बताया की अब उनके पास रोज करीब 700 कप चाय के आर्डर आते हैं, रेवन के दूकान पर अब 5 लोग काम करते हैं, तथा वो अपनी दूकान पर हर महीने 2 लाख रूपए का बिजनेस करते हैं, इसके साथ ही अब उनको हर महीने 50 से 60 हजार रूपए का मुनाफा हो रहा है।

ये भी पढ़ें – कभी अखबार खरीदने के नहीं थे पैसे, पढाई के लिए पिता ने बेच दी सारी जमीन, मुश्किलों से लड़कर बने IPS

You might also like