बिहार में उगाई जा रही है दुनिया की सबसे महंगी सब्जी, कीमत जानकर उर जायेंगे होश

एक आम इंसान के खाने में सब्जी काफी महत्वपूर्ण होती है। ऐसे कम ही लोग होंगे जो बिना सब्जी के खाना खा पाए। भारत में वैसे तो कई तरह की सब्जियां उगाई जाती हैं। इन सब्जियों की कीमत भी ठीक ठाक होती है, कभी-कभी तो आलू प्याज जैसी सब्जियां जिसे अधिकतर लोग अपने खाने में शामिल करते हैं। उनके दाम भी आम लोगों को काफी परेशान करने लगते हैं।

आलू प्याज से हटकर आज हम आपको एक ऐसी सब्जी के बारे में बताने वाले हैं, जिसका दाम सुनकर आप यकीन नहीं कर पाएंगे। इस (Most Expensive Vegetable of the World) की कीमत के आगे आलू, प्याज टमाटर और गोभी के दाम आपको इतने सस्ते लगेंगे की आप पुरे साल का आलू-प्याज एक साथ खरीदने की सोचने लगेंगे। “हॉप शूट्स” इस सब्जी की कीमत अभी बाजार में 1000 यूरो प्रति किलो है, मतलब की 1 किलो हॉप शूट्स सब्जी खरीदने के लिए आपको तकरीबन 86000 रूपए खर्च करने होंगे।

आपको ये दाम सुनकर यकीन नहीं हो रहा होगा, पर ये एकदम सच है, बता दें की इस सब्जी को खाने से कई तरह से फायदे होते हैं। इसी कारण इसका दाम बहुत ही ज्यादा रहता है। मालूम हो की इस सब्जी को दवा बनाने में भी उपयोग किया जाता है। ये सब्जी दांत का दर्द और टीवी जैसी गंभीर बिमारी में खाने पर काफी लाभकारी साबित होती है, इसके साथ ही इस सब्जी से एंटीबायोटिक भी बनाया जाता है।

आपको यह जानकर खुशी होगी की दुनिया की सबसे महंगी सब्जी की खेती बिहार के किसान भी कर रहे हैं। आपको बता दें की बिहार के औरंगाबाद के एक एक किसान अमरेश सिंह ने इस सब्जी को ट्रायल के तौर पर सबसे पहले बोना शुरू किया था। अमरेश ने कहा की ये सब्जी भारत में कम ही देखी जाती है और खासकर स्पेशल आर्डर पर ही लोग इसे खरीदते हैं। अमरेश की माने तो अगर सरकार इस सब्जी को उपजाने में सरकार किसानों की मदद करे, तो इस से उनकी आय दस गुना से भी अधिक बढ़ सकती है।

बता दें की “होप शूट्स” इस सब्जी के फूल को बियर बनाने के लिए भी उपयोग किया जाता है, वहीं इसकी टहनी को सलाद की तरह खाने में इस्तेमाल किया जाता है।  किसानों की माने तो अगर सरकार इस सब्जी को उपजाने में उनकी मदद करे, तो इस से किसानों की आय दस गुना से भी अधिक बढ़ सकती है।

जाहिर सी बात है ये सब्जी इतनी ज्यादा महंगी है की अगर इसकी कम फसल भी हो और अच्छी तरह से इसकी देख भल की जाए तो ये काफी मुनाफा करवा सकती है। बता दें की इस सब्जी की खेती साल भर नहीं होती है, इसे सिर्फ वसंत ऋतू में ही उपजाया जाता है।