मोटेरा का नाम नरेंद्र मोदी स्टेडियम रखने पर खान सर ने दी जबरदस्त प्रतिक्रिया!

24 फरवरी को भारत के गुजरात में दुनिया का सबसे बड़ा क्रिकेट स्टेडियम का उद्घाटन किया गया। बता दें की इस स्टेडियम का उद्घाटन देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा किया गया। आज भारत और इंग्लैंड के बीच इसी मैदान में बॉर्डर गवास्कर ट्रॉफी का तीसरा मैच खेला जा रहा है। मैच के शुरू होने से पहले मैदान का आधिकारिक उद्घाटन किया गया। इस मौके पर देश के गृह मंत्री अमित शाह भी मौजूद थे।

इस मैदान के उद्घाटन के बाद एक बड़ा विवाद पैदा हो गया है, आपको बता दें की मोटेरा की इस मैदान का नाम अब नरेंद्र मोदी स्टेडियम कर दिया गया है। जिसके बाद से विपक्ष और सहित कई लोगों ने सरकार पर सवाल उठाया और आलोचना की है। विपक्ष का कहना की स्टेडियम का नाम सरदार पटेल स्टेडियम से बदलकर नरेंद्र मोदी स्टेडियम करना, सरदार पटेल का अपमान है।

जब विवाद काफी गहरा होने लगा तब सरकार को भी सामने आना पड़ा है, सरकार का कहना की अभी भी इस स्पोर्ट्स काम्प्लेक्स का नाम सरदार पटेल स्पोर्ट्स काम्प्लेक्स ही है। सरकार का कहना है की नरेंद्र मोदी स्टेडियम सरदार पटेल स्पोर्ट्स काम्प्लेक्स का एक हिस्सा है। इसके अंदर और भी कई तरह के स्पोर्ट्स स्टेडियम बनाये जाने वाले हैं। बता दें की आज उद्घाटन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए गृह मंत्री अमित शाह ने कहा की अहमदाबाद को वो स्पोर्ट्स कैपिटल ऑफ़ इंडिया बनाना चाहते हैं।

स्टेडियम का नाम बदलने पर खान सर की प्रतिक्रिया

इस स्टेडियम के नाम के ऊपर जारी विवाद को लेकर देश के प्रसिद्ध GS टीचर खान सर का भी बयान सामने आया है, खान सर ने कहा है की देश के सीटिंग प्रधानमंत्री के नाम पर स्टेडियम का नाम रखना थोड़ा अजीब लगता है। हालाँकि खान सर ने देश के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गाँधी को भी याद करते हुए कहा की उनके नाम पर खेल के सबसे बड़े पुरष्कार खेल रत्न का नाम राजीव गाँधी खेल रत्न पुरष्कार रखा गया है और ये परंपरा भारत के काफी लम्बे समय से चली आ रही है। खान सर ने आगे कहा की सबसे अच्छा, ये होता की इस स्टेडियम का नाम देश के किसी स्वतंत्रता सेनानी जैसे भगत सिंह ये चंद्रशेखर आजाद के नाम पर रख दिया जाता। योजनाओं को नाम बेशक राजनेता को अपने नाम पर रखना चाहिए, पर देश के धरोहरों का नाम स्वतंत्रता सेनानियों के नाम पर रखना ही ज्यादा अच्छा होता।

बता दें की नरेंद्र मोदी स्टेडियम दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा स्टेडियम बन गया है और क्रिकेट के मैदानों में ये अब पहले नंबर पर है, इसकी छमता 1 लाख 10 हजार के पास है। जबकि इस से पहले दुनिया का सबसे बड़ा क्रिकेट स्टेडियम एमसीजी यानि की मेलबोर्न क्रिकेट ग्राउंड था, जिसकी छमता 90 हजार दर्शकों की थी।