भारत ने UNO में क्यों नहीं दिया इजराइल का साथ? क्या इस से दोनों देशों के रिश्ते होंगे खराब?

पूरी दुनिया इस समय कोरोना माहमारी से जूझ रही है। एशिया महादेश में भी कोरोना का प्रकोप दिखा है। भारत सहित अधिकतर देश कोरोना से अभी प्रभावित हैं। वही दूसरी तरफ कोरोना को मात दे चुका एशिया महाद्वीप का एक शक्तिशाली देश “इजराइल” में कुछ अलग हो रहा है। बता दें की इजराइल और फिलिस्तीन के बीच सालों से चले आ रहा विवाद एक बार फिर से बहार आ चुका है। इस विवाद के चलते दोनों ही देशों की बीच तनाव काफी बढ़ गया है।

पिछले कई दिनों से इजराइल पर फिलिस्तीन की चरमपंथी संगठन हमास की तरफ से हजारों राकेट दागे गए हैं। जिसके वजह से इजराइल आग बबूला हो चुका है और वो भी इस हमले का जवाब काफी घातक तरीके से दे रहा है। गौरतलब है की पिछले दिनों गाजा की तरफ से लगतार इजराइल पर राकेट हमले हो रहे हैं और इन हमलों में एक साथ सैंकड़ों राकेट दागे जा रहे हैं।

कुछ दिनों पहले हमास के दागे हुए राकेट से इजराइली नागरिक सहित 1 भारतीय महिला की भी मौत हो गयी थी। हमास के तरफ से तेज हो रहे हमलों ने आग में घी डालने का काम किया है। इसी वजह से अब इजराइल भी गाजा पर लगातार हमले कर रहा है। हाल ही में इजराइली हमले में गाजा की बड़ी-बड़ी इमारतों के ध्वस्त होने की तस्वीरें भी हमें सोशल मीडिया के माध्यम से देखने को मिली थी। कोरोना से प्रकोप के बीच पूरी दुनिया इस समय दो खेमे में बात गयी है। कोई देश इजराइल के समर्थन में है तो वहीं कई देश फिलिस्तीन का समर्थन कर रहे हैं।

इजराइल और फिलिस्तीन के बीच चल रहे विवाद पर अब भारत का भी बयान सामने आ गया है। हाल ही में हुई UNO की बैठक में भारत के राजदूत ने UN को संबोधित करते हुए कहा की वो दोनों तरफ से हो रही हिंसा के खिलाफ हैं। उन्होंने ये भी कहा की भारत फिलस्तीन की जायज मांग समर्थन करता है। बहुत से लोग इस बयान को इजराइल विरोधी बता रहे हैं।  हाल में पटना के मशहूर शिक्षक खान सर इस मसले पर वीडियो बनाकर बताया है की भारत ने आखिर क्यों इजराइल का साथ नहीं दिया। भारत ने UNO में क्यों नहीं दिया इजराइल का साथ? क्या इस से दोनों देशों के रिश्ते होंगे खराब?

Red Play बटन पर क्लिक करके देखिये खान सर का वीडियो

बता दें की इजराइल और फिलिस्तीन के बीच ऐसा भीषण संघर्ष सात साल पहले देखने को मिला था। उसके बाद अब फिर से एक बार हालत काबू से बहार जाते दिखाई दे रहे हैं। और ऐसा भी अभी बिलकुल नहीं लगता की ये समस्या तुरंत ही खत्म होने वाली है।