कभी सड़क पर पकोड़ा बेचा करता था बिहार का यह शक्स ,आज है करोड़पत्ति

जिंदगी में कठिनाई बहुत आती है चाहे वह आपके बिजनेस से सम्बिधित हो या व्यक्तिगत सभी को जिंदगी में कठिनाइओं का सामना करना पड़ता है किसी को कम या किसी को ज्यादा जिंदगी इसी का नाम है। इस धरती पर आप जन्म लिए है और अगर आप मिडिल क्लास फैमिली से ताल्लुक रखते है तो आपके जिंदगी में बहुत कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है यह मैं नहीं यह एनालिसिस बताती है। भारत में एक मिडिल क्लास फैमिली में जन्म लेकर एक बिज़नेस स्टार्ट करने के लिए कितना संघर्ष करना पड़ता है।

हम एक ऐसे ही शक्स से आपको रूबरू कराते है जो कभी सड़क पर पकोड़ा बेचा करता था और आज है करोड़ो का मालिक इनका नाम है Chand Bihari Agrawal यह अभी बिहार के जाने माने ज्वेलर के रूप में जाने जातें है।

Chand Bihari Agarwal Success Story

Chand Bihari Agrawal की कहानी एक सेल्समेन से Start हुई थी और आज एक बिहार के जाने माने जेवलर के रूप में जाना जाता है। जयपुर में जन्म लिए चाँद बिहारी इनके बचपन मुसीबतों से भरा रहा पिता के जुआ खेलने के कारण घरेलु परिस्थिति ठीक नहीं थी इसीलिए बहुत कम उम्र में Chand Bihari अपनी माँ के साथ जयपुर के फुटपाथ पर पकोड़ा बेचा करते थे। चाँद बिहारी बताते है की पकोड़ा से हमलोग की परिस्थिति ठीक नहीं हो पा रही थी तो उन्होंने साड़ी की दूकान पर सेल्समेन के रूप में काम किया जहाँ उनकी वेतन 300 रुपये हुआ करती थी। इनको काम करते करते अपना बिज़नेस स्टार्ट करने का आईडिया आया और अपना बिजनेस स्टार्ट करने के लिए पटना आ गए।

उनका कहना है जब हौसला आपके साथ हो तो किस्मत बदलते देर नहीं लगता इन्होने कपड़े का बिज़नेस किया फुटपाथ पर कपड़े बेचना स्टार्ट किए लेकिन इनके लिए पटना शहर अनजान था क्यूंकि यह जयपुर में रहा करते थे इनके लिए यह  बिज़नेस आसान नहीं था। पटना में बहुत सारे पहले से फुटपाथ पर कपड़े बेचा करते थे इन्हे इस बिसनेस में घटा हुआ। लेकिन इन्होनें हौसला नहीं हारा अपने हौसले पर कायम रहे। फिर इन्होने कपड़े को दुकान में जाकर सैंपल के रूप में साड़ी  दिखाने लगे इनको कपड़े के दुकान पर साड़ी का अच्छा  रिस्पांस मिलने लगा और वही से Chand Bihari Agrawal की कठिन मेहनत रंग लायी और यह वहां से एक मजबूत तौर पर खड़े हुए।लेकिन 1977 में इनके दुकान में चोरी हो गया लेकिन फिर भी यह डगमग नहीं हुयें।

Chand Bihari Agarwal Success Story

इन्होने एक अलग बिज़नेस करने का सोचा लेकिन इनको इस बिजनेस में पैसा चाहिए था तो इन्होने अपने भाई से 5000 रूपए लेकर जेवेलरी की दुकान खोली और उनकी फिर किस्मत चमकी और यह दूकान बहुत तेज़ी से आगे बढ़ा वहां से इन्होने बहुत सारे पैसा कमाए। अपनी मेहनत और लगन से लोगों में अपनी पहचान बनाई।  यह कहते है हमारी एक सोच पहले से रही है User को सबसे अच्छी क्वालिटी देना है। उनका यही सोच और जज्बा आज उनका कारोबार लगभग 20 करोड़ रूपए के आस पास है।

ऐसे ही कहानी को पढ़ने के लिए आप कहानी पर Click करें।

और पढ़ें :- तू अफसर बनेगा कहते-कहते पिता चल बसे, छोटी उम्र में ही उठानी पड़ी परिवार की जिम्मेदारी, मुश्किलों को मात देकर ऐसे बने IAS